Shrimadhopur Town

Shrimadhopur (Shri Madhopur) or Srimadhopur (Sri Madhopur) is a subdivision in Sikar district.

Its distance from district headquarter is 60 kilometers and from the capital of Rajasthan is 75 kilometers. It was founded on Vaishak Shukla Tritiya (Akshay Tritiya) in 1761 AD by chief Diwan of Jaipur estate Mr Khushali Ram Bohra of Noppura.

The architecture of Shrimadhopur is similar to Jaipur so we can say that its design is a replica of Jaipur. As in Jaipur, all roads intersect each other at 90 degree angle, same position in Shrimadhopur also.

Also Read हिस्ट्री ऑफ श्रीमाधोपुर - श्रीमाधोपुर का इतिहास

All facilities and government offices are located here, including Railway Station (SMPR), Bus Stand, Municipality, Tehsil, SDM office, Krishi Upaj Mandi etc. The population of the city is approximately fifty thousand.

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Shrimadhopur.com के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Shrimadhopur.com उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

SMPR City
Ramesh Sharma

SMPR City Articles

  • ऐसे बनते है मंडास्या के प्रसिद्ध समोसे

    Aise Banta Hai Mandasya Ka Famous Samosa
     
  • श्रीमाधोपुर का उभरता बॉलीवुड गीत लेखक कुणाल वर्मा

    Shrimadhopur Ka Ubharta Bollywood Songs Writer Kunal Verma
     
  • अपने हिस्टोरिकल बैकग्राउंड पर आँसू बहाती भव्य छतरी

    Apne Historical Background Par Aansu Bahati Bhavya Chhatri