Painter Rahul Kumawat

Shrimadhopur Ka Ubharta Painter Rahul Kumawat, श्रीमाधोपुर का उभरता चित्रकार राहुल कुमावत

प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती है तथा ग्रामीण परिवेश भी उन्हें बंधनों में नहीं बाँध सकता है। कुछ लोग कम उम्र में भी बहुत उपलब्धियाँ प्राप्त कर लेते हैं तथा कुछ लोगों को वह उम्र भर भी नसीब नहीं होती हैं।

अगर इंसान ईमानदारी, दृढ़ निश्चय, मेहनत तथा लगन के साथ कोई कार्य करने की ठान ले तो निश्चित ही वह अपने लक्ष्य में सफल हो जाता है।

ऐसे ही दृढ़ निश्चयी तथा मेहनती युवक का नाम है श्रीमाधोपुर निवासी राहुल कुमावत। मात्र तैबीस वर्ष की आयु में ही राहुल ने कला के क्षेत्र में बहुत नाम कमाया है।

Shrimadhopur Ka Ubharta Painter Rahul Kumawat

राहुल चर्चा में तब आए जब हाल ही में उनकी कलाकृति को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली जब उनकी कलाकृति को नीदरलैंड में अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में शामिल किया गया।

राहुल का जन्म 7 मई 1994 को सीकर जिले के श्रीमाधोपुर कस्बे में हुआ। इनके पिताजी का नाम श्री धर्मेन्द्र कुमावत तथा माताजी का नाम श्रीमती संतोष देवी है।

इन्होनें अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय श्रीमाधोपुर से पूर्ण की। बचपन से ही इनकी रुचि कला क्षेत्र में रही है इस वजह से इन्होनें राजस्थान स्कूल ऑफ आर्ट जयपुर में प्रवेश लेकर कला शिक्षा को अपने करियर के रूप में चुना।

यहाँ इन्हें कला की बारीकियों को सीखने तथा समझने का भरपूर अवसर मिला फलस्वरूप इनकी प्रतिभा निखरती चली गई। शिक्षकों द्वारा अनपेक्षित सहयोग के फलस्वरूप दिन प्रतिदिन इनकी रुचि कला के प्रति और अधिक बढ़ती चली गई। धीरे-धीरे इनका रंगों से प्यार बढ़ता चला गया।

कॉलेज में अध्ययन करने के साथ-साथ ही इन्होने कला के क्षेत्र में विभिन्न कार्य करना शुरू कर दिया था जिससे इन्हें अपनी आजीविका चलाने हेतु परिवार पर निर्भर नहीं होना पड़े।

रंगों से मित्रता और कला से गहरे जुड़ाव के चलते इन्होने कई सामाजिक विषयों को लेकर इंस्टालेशन आर्ट और कलाकृतियाँ बनाई जो बहुत सराही गई।

Art work of Rahul Kumawat

इनका पसंदीदा माध्यम ऐक्रेलिक ऑन कैनवास रहा है। इसके साथ-साथ इन्हें पेन तथा स्याही से रेखांकन और कलाकृतियाँ बनाना भी अत्यंत पसंद है। इसके साथ इन्होनें ऑइल कलर और मिक्स मीडियम में भी ढेरों कलाकृतियाँ बनाई है जिनका विभिन्न आर्ट गैलरीज में प्रदर्शन हो चुका है।

इनकी अधिकाँश कलाकृतियों का विषय संगीत रहा है अर्थात अधिकाँश कलाकृतियाँ संगीत विषय पर आधारित हैं। इनकी अधिकाँश कलाकृतियों का विषय संगीत विषय पर आधारित होने की मुख्य वजह इनका कला के साथ-साथ संगीत से भी अत्यधिक जुड़ाव होना रहा है।

संगीत की बारीकियों को समझने के कारण इन्होनें संगीत श्रृंखला पर अनेकों चित्राकृतियाँ बनाई जिनका विभिन्न कला दीर्घाओं में प्रदर्शन हुआ है। ललित कला अकादमी द्वारा इन्हें छात्रवृत्ति दी गई तथा विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया।

Also Read श्रीमाधोपुर का उभरता बॉलीवुड गीत लेखक कुणाल वर्मा

इनके लिए सबसे अधिक उपलब्धि का वर्ष 2017 रहा जब इन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। इनके द्वारा रचित कलाकृति "प्रकृति से संगीत" (from nature to music) का चयन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नीदरलैंड में हुआ जहाँ विभिन्न देशों के 80 कलाकारों के साथ इनकी कलाकृति का प्रदर्शन हुआ।

वर्तमान समय में राहुल ग्रामीण क्षेत्रों से कला के अल्पज्ञान तथा पिछड़ेपन को दूर करने के लिए तथा कला शिक्षा को ग्रामीण क्षेत्र में नई पहचान दिलाने के लिए प्रयासरत है।

प्रतियोगिताएँ एवं कला शिविर:

1. रामगोपाल विजयवर्गीय मेमोरियल ट्रस्ट, "कला उत्सव" 2016
2. राजस्थान स्कूल ऑफ आर्ट, "बोट इंस्टालेशन" 2016
3. 18 कला मेला, राजस्थान ललित कला अकादमी 2015
4. "प्रवाह 2015", SKIT, जयपुर 2015
5. "ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल" 2015
6. "ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल", "कार्टिस्ट" 2015
7. "आर्ट कॉम्पिटिशन" आईडीएफसी 2013
8. "आर्ट कैंप", "कलानेरी अकैडमी ऑफ फाइन आर्ट्स" 2012
9. "15 कला मेला", राजस्थान ललित कला अकादमी 2012
10. "अम्ब्रेला कम्पटीशन" 2011
11. "ब्लू पॉटरी कैंप" जयपुर 2011
12. "राजस्थान विश्वविद्यालय", "भगत सिंह" 2010

कला प्रदर्शनी एवं पुरस्कार:

1. International Art Exhibition at "WTC" The "Hague Art Gallery", Netherland 2017
2. "Student Art Award" by Lalit Kala Academy, Jaipur 2016
3. "All India Art Exhibition" by "Camel Art Foundation" Lalit Kala Academy, Luknow 2014
4. "Automobile Art Exhibition" by "Cartist" in "Hotel Rajputana", Jaipur 2015
5. 35th Student Art Exhibition, "Lalit Kala Academy", Jaipur 2015
6. 34th Student Art Exhibition, "Lalit Kala Academy", Jaipur 2014
7. Exhibition at RGV School, "Ramgopal Vijayvargiya Memorial Trust" 2016
8. Installation Award by Rajasthan School of Art, Annual Function, Jaipur 2016.
9. "18th Art Fair", Exhibition, Lalit Kala Academy, 2015
10. "15th Art Fair", Exhibition, Lalit Kala Academy, 2012

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Shrimadhopur.com के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Shrimadhopur.com उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

SMPR City
Ramesh Sharma

SMPR City Articles

  • अर्जुन पुरस्कार विजेता बास्केटबॉल खिलाड़ी राधेश्याम बिजारनियाँ

    Arjun Awardee Basketball Player Radheshyam Bijarniya
     
  • विजयपुरा का गढ़ श्रीमाधोपुर सीकर इतिहास और कहानी

    Vijaypura Fort Shrimadhopur Sikar History and Story
     
  • ऐसे बनते है मंडास्या के प्रसिद्ध समोसे

    Aise Banta Hai Mandasya Ka Famous Samosa