Vijaypura Fort Shrimadhopur Sikar History and Story, विजयपुरा का गढ़ श्रीमाधोपुर सीकर इतिहास और कहानी

राजस्थान की पहचान ऐतिहासिक धरोहरों की वजह से सम्पूर्ण भारत में है. यहाँ पर हर तीस चालीस किलोमीटर की दूरी पर कोई न कोई महल, गढ़ या किला बना हुआ है.

सीकर जिला भी इस क्रम में राजस्थान के किसी अन्य जिले से पीछे नहीं है. आज हम आपको सीकर जिले के श्रीमाधोपुर कस्बे के पास में स्थित विजयपुरा के गढ़ के सम्बन्ध में बताते हैं.

Vijaypura Fort Shrimadhopur Sikar History and Story

यह गढ़ श्रीमाधोपुर रेल्वे स्टेशन से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. एक बड़ी हवेली जितने आकार का यह गढ़ रेत के टीले के ऊपर बना हुआ है.

बताया जाता है कि इस गढ़ में विजयपुरा के जागीरदार का निवास था. आस पास के कई गाँव इस जागीरदार के अधिकार क्षेत्र में आते थे. अब यह गढ़ काफी जर्जर हालत में है. इसके अन्दर प्रवेश करने पर सामने एक चौक बना नजर आता है.

Vijaypura Fort history and architecture

इस चौक के एक तरफ शायद किसी ने खजाने के लालच में खुदाई की है. चौक के चारों तरफ कमरे बने हुए हैं जिनमे से कुछ पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं. सीढ़ियों से ऊपर जाने पर पीछे की तरफ कुछ भव्य कमरे बने हुए हैं.

एक कमरे में सुन्दर झरोखा बना हुआ है तथा दीवारों पर नीचे की तरफ बेल बूँटे आदि बने हुए हैं. ऊपर के कमरों में शायद इस गढ़ की मालकिन का निवास रहा होगा.

Also Read श्रीमाधोपुर की स्थापना के समय बना था गढ़

जैसे कि अधिकांश गढ़ चूने और पत्थर के बने होते हैं ठीक उसी प्रकार इस गढ़ के निर्माण में भी चूने और पत्थर का ही उपयोग किया गया है. यह दुर्भाग्य की बात है कि राजस्थान के अधिकांश छोटे बड़े गढ़ों का लिखित इतिहास मौजूद नहीं है.

उपेक्षा के कारण जिस प्रकार इन गढ़ों की दुर्दशा हो रही है ठीक उसी प्रकार इनके प्रमाणिक इतिहास की भी कोई जानकारी नहीं है.

Why should visit Vijaypura Fort?

यह गढ़ श्रीमाधोपुर कस्बे के इतना निकट है लेकिन फिर भी श्रीमाधोपुर के अधिकाँश निवासियों को इसके विषय में पता तक नहीं है. अगर आप ऐतिहासिक धरोहरों को निकट से देखने में रुचि रखते हैं तो आप इसे एक बार देख सकते हैं.

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Shrimadhopur.com के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Shrimadhopur.com उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

SMPR City
Ramesh Sharma

SMPR City Articles

  • श्रीमाधोपुर के उभरते चित्रकार गोरीशंकर सोनी

    Shrimadhopur Ke Emerging Painter Hain Gorishankar Soni
     
  • कभी 5 बीघा भूमि में फैला हुआ था रघुनाथ मंदिर

    Kabhi 5 Bigha Bhoomi Me Faila Hua Tha Raghunath Mandir
     
  • किसी जमाने में श्रीमाधोपुर की शान थी कायथवालो की बावड़ी

    Kisi Jamane Me Shrimadhopur Ki Shaan Thi Kayathwalo Ki Baori