19
Fri, Jan

श्रीमाधोपुर निवासी राहुल कुमावत कला के क्षेत्र में उभरता हुआ नाम

Art
Typography
  • Smaller Small Medium Big Bigger
  • Default Helvetica Segoe Georgia Times

प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती है तथा ग्रामीण परिवेश भी उन्हें बंधनों में नहीं बाँध सकता है। कुछ लोग कम उम्र में भी बहुत उपलब्धियाँ प्राप्त कर लेते हैं तथा कुछ लोगों को वह उम्र भर भी नसीब नहीं होती हैं। अगर इंसान ईमानदारी, दृढ़ निश्चय, मेहनत तथा लगन के साथ कोई कार्य करने की ठान ले तो निश्चित ही वह अपने लक्ष्य में सफल हो जाता है।

ऐसे ही दृढ़ निश्चयी तथा मेहनती युवक का नाम है श्रीमाधोपुर निवासी राहुल कुमावत। मात्र तैबीस वर्ष की आयु में ही राहुल ने कला के क्षेत्र में बहुत नाम कमाया है। राहुल चर्चा में तब आए जब हाल ही में उनकी कलाकृति को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली जब उनकी कलाकृति को नीदरलैंड में अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में शामिल किया गया।

राहुल का जन्म 7 मई 1994 को सीकर जिले के श्रीमाधोपुर कस्बे में हुआ। इनके पिताजी का नाम श्री धर्मेन्द्र कुमावत तथा माताजी का नाम श्रीमती संतोष देवी है। इन्होनें अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय श्रीमाधोपुर से पूर्ण की। बचपन से ही इनकी रुचि कला क्षेत्र में रही है इस वजह से इन्होनें राजस्थान स्कूल ऑफ आर्ट जयपुर में प्रवेश लेकर कला शिक्षा को अपने करियर के रूप में चुना।

यहाँ इन्हें कला की बारीकियों को सीखने तथा समझने का भरपूर अवसर मिला फलस्वरूप इनकी प्रतिभा निखरती चली गई। शिक्षकों द्वारा अनपेक्षित सहयोग के फलस्वरूप दिन प्रतिदिन इनकी रुचि कला के प्रति और अधिक बढ़ती चली गई। धीरे-धीरे इनका रंगों से प्यार बढ़ता चला गया।

कॉलेज में अध्ययन करने के साथ-साथ ही इन्होने कला के क्षेत्र में विभिन्न कार्य करना शुरू कर दिया था जिससे इन्हें अपनी आजीविका चलाने हेतु परिवार पर निर्भर नहीं होना पड़े। रंगों से मित्रता और कला से गहरे जुड़ाव के चलते इन्होने कई सामाजिक विषयों को लेकर इंस्टालेशन आर्ट और कलाकृतियाँ बनाई जो बहुत सराही गई।

इनका पसंदीदा माध्यम ऐक्रेलिक ऑन कैनवास रहा है। इसके साथ-साथ इन्हें पेन तथा स्याही से रेखांकन और कलाकृतियाँ बनाना भी अत्यंत पसंद है। इसके साथ इन्होनें ऑइल कलर और मिक्स मीडियम में भी ढेरों कलाकृतियाँ बनाई है जिनका विभिन्न आर्ट गैलरीज में प्रदर्शन हो चुका है।

इनकी अधिकाँश कलाकृतियों का विषय संगीत रहा है अर्थात अधिकाँश कलाकृतियाँ संगीत विषय पर आधारित हैं। इनकी अधिकाँश कलाकृतियों का विषय संगीत विषय पर आधारित होने की मुख्य वजह इनका कला के साथ-साथ संगीत से भी अत्यधिक जुड़ाव होना रहा है।

संगीत की बारीकियों को समझने के कारण इन्होनें संगीत श्रृंखला पर अनेकों चित्राकृतियाँ बनाई जिनका विभिन्न कला दीर्घाओं में प्रदर्शन हुआ है। ललित कला अकादमी द्वारा इन्हें छात्रवृत्ति दी गई तथा विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया।

इनके लिए सबसे अधिक उपलब्धि का वर्ष 2017 रहा जब इन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। इनके द्वारा रचित कलाकृति "प्रकृति से संगीत" (from nature to music) का चयन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नीदरलैंड में हुआ जहाँ विभिन्न देशों के 80 कलाकारों के साथ इनकी कलाकृति का प्रदर्शन हुआ।

वर्तमान समय में राहुल ग्रामीण क्षेत्रों से कला के अल्पज्ञान तथा पिछड़ेपन को दूर करने के लिए तथा कला शिक्षा को ग्रामीण क्षेत्र में नई पहचान दिलाने के लिए प्रयासरत है। इसके लिए इन्होने अपनी जन्मभूमि श्रीमाधोपुर को चुना तथा वहाँ पर मैड अकैडमी ऑफ फाइन आर्ट्स की स्थापना कर विद्यार्थियों को कला (ड्राइंग तथा पेंटिंग) के साथ-साथ नृत्य, गायन तथा वादन के क्षेत्र में प्रशिक्षित करना शुरू कर दिया।

प्रतियोगिताएँ एवं कला शिविर:

1. रामगोपाल विजयवर्गीय मेमोरियल ट्रस्ट, "कला उत्सव" 2016
2. राजस्थान स्कूल ऑफ आर्ट, "बोट इंस्टालेशन" 2016
3. 18 कला मेला, राजस्थान ललित कला अकादमी 2015
4. "प्रवाह 2015", SKIT, जयपुर 2015
5. "ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल" 2015
6. "ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल", "कार्टिस्ट" 2015
7. "आर्ट कॉम्पिटिशन" आईडीएफसी 2013
8. "आर्ट कैंप", "कलानेरी अकैडमी ऑफ फाइन आर्ट्स" 2012
9. "15 कला मेला", राजस्थान ललित कला अकादमी 2012
10. "अम्ब्रेला कम्पटीशन" 2011
11. "ब्लू पॉटरी कैंप" जयपुर 2011
12. "राजस्थान विश्वविद्यालय", "भगत सिंह" 2010

कला प्रदर्शनी एवं पुरस्कार:

1. International Art Exhibition at "WTC" The "Hague Art Gallery", Netherland 2017
2. "Student Art Award" by Lalit Kala Academy, Jaipur 2016
3. "All India Art Exhibition" by "Camel Art Foundation" Lalit Kala Academy, Luknow 2014
4. "Automobile Art Exhibition" by "Cartist" in "Hotel Rajputana", Jaipur 2015
5. 35th Student Art Exhibition, "Lalit Kala Academy", Jaipur 2015
6. 34th Student Art Exhibition, "Lalit Kala Academy", Jaipur 2014
7. Exhibition at RGV School, "Ramgopal Vijayvargiya Memorial Trust" 2016
8. Installation Award by Rajasthan School of Art, Annual Function, Jaipur 2016.
9. "18th Art Fair", Exhibition, Lalit Kala Academy, 2015
10. "15th Art Fair", Exhibition, Lalit Kala Academy, 2012

श्रीमाधोपुर निवासी राहुल कुमावत कला के क्षेत्र में उभरता हुआ नाम
Rahul Kumawat of Shri Madhopur emerges in the field of art

Sign up via our free email subscription service to receive notifications when new information is available.