21 Feet Height Ke Rath Par Viraje Bhagwan Jagannath

21 फीट ऊँचे रथ पर विराजे भगवान जगन्नाथ, 21 Feet Height Ke Rath Par Viraje Bhagwan Jagannath

श्रीमाधोपुर‎ भगवान जगन्नाथ भ्राता बलभद्र व‎ बहन सुभद्रा के साथ पहले जैसे ताम-झाम के साथ मंगलवार को नगर भ्रमण पर नहीं निकले। उदयपुर‎ हत्याकांड के कारण लगी धारा 144‎ का हवाला देकर प्रशासन के द्वारा पूर्व‎ में दी गई अनुमति को सोमवार को ही निरस्त करने के बाद आज श्री‎ गोपीनाथ मंदिर में पौराणिक रथ में भगवान को विराजित कर मंदिर‎ परिसर में ही भ्रमण करवाया गया।‎

शाम करीब 5 बजे भगवान जगन्नाथ, बलभद्र व सुभद्रा की प्रतिमा को श्रीगोपीनाथ मंदिर के बाहर 21 फीट‎ ऊंचे रथ में विराजित किया गया और‎ महाआरती की गई।‎

इस दौरान जगन्नाथ के दर्शनों के‎ लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी।‎ इसके बाद मंदिर प्रबंधन की ओर से‎ सभी श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में‎ रथयात्रा निकालने की बात कहकर‎ श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में‎ पहुंचने का आह्वान किया।

21 Feet Height Ke Rath Par Viraje Bhagwan Jagannath

शाम को‎ जगन्नाथ भ्राता बलभद्र व बहन‎ सुभद्रा के साथ श्रीगोपीनाथ मंदिर‎ प्रांगण में भ्रमण कराया गया। इस‎ दौरान भगवान इस्कॉन मंडली के द्वारा‎ हरे-कृष्ण, हरे राम नाम का संगीतमयी‎ संकीर्तन हुआ।‎

कार्यक्रम में अखिल भारतीय चर्तु‎ संप्रदाय के श्रीमहंत दिनेश दास‎ महाराज, इस मौके पर मंदिर महंत डॉ.‎ मनोहरशरण पारीक, मंदिर सेवायत‎ बद्रीनारायण पारीक, पीताम्बर शरण‎ पटवारी, प्रियाशरण पटवारी व जितेन्द्र‎ पटवारी समेत काफी संख्या में‎ श्रद्धालु मौजूद थे।‎

कलेक्टर ने रथयात्रा की‎ अनुमति नहीं दी‎

शहर में भगवान जगन्नाथ की‎ रथयात्रा को निकालने के लिए‎ मंदिर प्रबंधन का प्रतिनिधि मंडल‎ मंगलवार को कलेक्टर अविचल‎ चतुर्वेदी से भी मिला लेकिन धारा‎ 144 के दौरान भीड़-भाड़ के‎ अंदेशे को लेकर कलेक्टर ने इसकी‎ परमिशन नहीं दी। वहीं व्यापारी‎ मंडल व मंदिर प्रशासन से जुड़े‎ लोग एसडीएम के पास भी पहुंचे‎ लेकिन अनुमति नहीं मिल पाई।‎

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी इसके सोर्स पर आधारित है एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Shrimadhopur.com के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Shrimadhopur.com उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

SMPR City
Ramesh Sharma

SMPR City Articles

  • पंसारी की हवेली श्रीमाधोपुर सीकर इतिहास और कहानी

    Pansari Ki Haveli Shrimadhopur Sikar History and Story
     
  • कभी अखाड़े के नाम से प्रसिद्ध था महावीर दल

    Kabhi Akhade Ke Naam Se Famous Tha Mahaveer Dal
     
  • किसी जमाने में श्रीमाधोपुर की शान थी कायथवालो की बावड़ी

    Kisi Jamane Me Shrimadhopur Ki Shaan Thi Kayathwalo Ki Baori