जीण माता मंदिर जीणधाम सीकर

जीण माता मंदिर जीणधाम सीकर - जीण माता का मंदिर अरावली की सुरम्य पहाड़ियों के बीच में स्थित है. यह मंदिर सीकर से लगभग 25 किलोमीटर तथा जयपुर से लगभग 108 किलोमीटर की दूरी पर है.

धार्मिक एवं ऐतिहासिक धरोहरों के लिए मशहूर है खंडेला

धार्मिक एवं ऐतिहासिक धरोहरों के लिए मशहूर है खंडेला - सीकर जिले में स्थित खंडेला कस्बा धार्मिक एवं ऐतिहासिक धरोहरों की स्थली के साथ-साथ बहुत से समाजों की जन्म स्थली भी है.

प्राचीन श्याम मंदिर मूंडरु सीकर

प्राचीन श्याम मंदिर मूंडरु सीकर – सीकर जिले के श्रीमाधोपुर तहसील में स्थित मूंडरु कस्बा धार्मिक एवं ऐतिहासिक रूप से काफी प्रसिद्ध है. कस्बे के बीचों-बीच श्याम बाबा का मंदिर है जिसे प्राचीन श्याम मंदिर के नाम से जाना जाता है.

ऐतिहासिक दरवाजा और बालाजी का मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर

ऐतिहासिक दरवाजा और बालाजी का मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर - श्रीमाधोपुर नगर की स्थापना 1761 ईस्वी में वैशाख शुक्ल तृतीय (अक्षय तृतीय) के दिन जयपुर राज दरबार के प्रधान दीवान बोहरा राजा श्री खुशाली राम जी ने ऐतिहासिक खेजड़ी के वृक्ष के नीचे की थी.

गोपीनाथजी मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर

गोपीनाथजी मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर - श्रीमाधोपुर में गोपीनाथजी का मंदिर अपनी प्राचीनता एवं वास्तु शैली के लिए प्रसिद्ध है. मंदिर की नींव कस्बे की स्थापना के समय ही अक्षय तृतीया के दिन 1761 ईस्वी (विक्रम संवत् 1818) में रखी गई.

कायथवाल बावड़ी श्रीमाधोपुर सीकर

कायथवाल बावड़ी श्रीमाधोपुर सीकर - श्रीमाधोपुर शहर में दरवाजे वाले बालाजी से कुछ आगे जाने पर एक ऐतिहासिक बावड़ी स्थित है जो कि इस कस्बे की ही नहीं वरन आस पास के पूरे क्षेत्र की एकमात्र बावड़ी है। आस पास के क्षेत्रों में इस बावड़ी के अतिरिक्त दूसरी कोई बावड़ी नहीं है।

रघुनाथ मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर

रघुनाथ मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर - रघुनाथ जी का मंदिर श्रीमाधोपुर कस्बे के मध्य में राजपथ पर राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सामने स्थित है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मंदिर का निर्माण गोविन्दगढ़ निवासी कानूनगो परिवार ने श्रीमाधोपुर की स्थापना के समय ही करवाया था।

महावीर दल अखाड़ा श्रीमाधोपुर सीकर

महावीर दल अखाड़ा श्रीमाधोपुर सीकर - श्री महावीर दल श्रीमाधोपुर कस्बे में दरवाजे वाले बालाजी के सामने स्थित है तथा इसे “अखाड़ा” के नाम से भी जाना जाता है।

टपकेश्वर महादेव मंदिर टोडा नीम का थाना सीकर

टपकेश्वर महादेव मंदिर टोडा नीम का थाना सीकर - राजस्थान की मिट्टी वीर रणबांकुरों की भूमि होने के साथ-साथ अपनी ऐतिहासिक और धार्मिक धरोहरों के लिए भी जानी जाती है. यहाँ की भूमि में प्रत्येक पंद्रह बीस किलोमीटर की दूरी पर कोई ना कोई ऐतिहासिक या धार्मिक स्थल मिल जाएगा.

प्राचीन शिव मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर

प्राचीन शिव मंदिर श्रीमाधोपुर सीकर - जयपुर के महाराजा सवाई माधोसिंह प्रथम के शासन काल में 1760-61 ईस्वी के लगभग वर्तमान श्रीमाधोपुर के निकट हाँसापुर (वर्तमान में हाँसपुर) तथा फुसापुर (वर्तमान में पुष्पनगर) के सामंतो ने विद्रोह करके कर देना बंद कर दिया था।

गणेश्वर धाम गणेश्वर नीमकाथाना सीकर

गणेश्वर धाम गणेश्वर नीमकाथाना सीकर - सीकर जिले की नीमकाथाना तहसील में स्थित है गणेश्वर धाम. यह स्थान नीमकाथाना शहर से लगभग तेरह किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

कालीबाय बावड़ी खंडेला सीकर

कालीबाय बावड़ी खंडेला सीकर - सीकर जिले का खंडेला कस्बा अपने गोटा उद्योग एवं ऐतिहासिक धरोहरों के कारण सम्पूर्ण भारत में प्रसिद्ध है.

पंसारी की हवेली श्रीमाधोपुर सीकर

पंसारी की हवेली श्रीमाधोपुर सीकर - राजस्थान में शेखावाटी क्षेत्र मुख्यतया अपनी हवेलियों, छतरियों एवं बावडियों के लिए सम्पूर्ण विश्व में प्रसिद्ध है.

भव्य छतरी श्रीमाधोपुर सीकर

भव्य छतरी श्रीमाधोपुर सीकर - श्रीमाधोपुर कस्बे में अधिक ऐतिहासिक धरोहरें मौजूद नहीं है और अगर कुछ धरोहरें मौजूद भी है तो उनकी दुर्दशा ही हो रही है.

भूतेश्वर महादेव मंदिर सिसियावास आमेर जयपुर

दो हजार वर्ष से अधिक पुराना है भूतेश्वर महादेव मंदिर - जयपुर के आमेर क्षेत्र में अरावली की सुरम्य पहाड़ियों के बीच कई अनदेखे ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थल मौजूद हैं.

गढ़ गणेश मंदिर जयपुर

गढ़ गणेश मंदिर जयपुर - यूँ तो भारत में गणेश जी के अनेक मंदिर स्थित है जिनकी भक्तों में काफी अधिक मान्यता है परन्तु इनमें से एक मंदिर ऐसा भी है जो इन सभी मंदिरों में अनूठा है. इसके अनूठे होने का कारण इसकी गणेश प्रतिमा का अद्वितीय रूप है.

मालेश्वरनाथ महादेव मंदिर सामोद जयपुर

मालेश्वरनाथ महादेव मंदिर सामोद जयपुर- जयपुर से लगभग 40 किलोमीटर दूर चौमू-अजीतगढ़ रोड पर सामोद कस्बे से लगभग 3-4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है महार कला गाँव. कई धरोहरों तथा घटनाओं को अपने अन्दर समेटे हुए यह गाँव ऐतिहासिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है.

धनुषधारी हनुमान मंदिर आकेडा डूंगर जयपुर

धनुषधारी हनुमान मंदिर आकेडा डूंगर जयपुर - जयपुर शहर के पास ही अरावली की सुरम्य पहाड़ियों के बीच कई अनदेखे ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थल मौजूद हैं. इन्ही में से एक धार्मिक स्थल का नाम है धनुषधारी हनुमान मंदिर.