थोड़ी दूर तो साथ चलो

भाइयों बहनों, मैं आपका प्रधान सेवक बोल रहा हूँ

दिल छूने वाली शायरियाँ

पकौड़ा पॉलिटिक्स के बीच पिसता हुआ युवा

अलसुबह की भोर

जीवन का दर्शनशास्त्र 

खुदा करे तुझपे भी दाग लग जाए

सोशल मीडिया के सिपाही

मृत्यु शैया पर लेटे लेटे

बुढ़ापे की व्यथा - शायद यही बुढ़ापा है

कहाँ है वो लड़की?

मेरी कल्पना में तुम

रातों का सूनापन और सन्नाटा - ये रातों का सूनापन ये सन्नाटा

ये रातों का सूनापन ये सन्नाटा
कब जाएगा मेरे मन से
कब तक चुराएँगी नींदे मेरी
ये चिंताएँ।

क्यों सोचती हूँ उनके लिए
जिन्होनें मुझे तोड़ा है
आज मैं उन्ही लोगों के लिए
व्याकुल हूँ
जिन्होनें मुझे यूँ इस हाल पे छोड़ा है।

क्या रिश्ते ऐसे होते हैं
जो अपनों को यूँ ठुकराते हैं
क्यूँ मुँह फेरा सबने मुझसे
मैंने तो परायों को भी अपना माना
दिए संस्कार माँ ने जो
उन सबको जी जान से निभाया।

जन्म लिया जिस घर में मैंने
छोड़ आई उन अपनों को
इस घर में आकर त्याग दिया
अपने सभी इच्छित सपनों को।

जो न किया माँ-बाप, भाई-बहन के लिए
सब कुछ किया इन परायों के लिए
कभी स्वीकारा नहीं दिल से इन्होनें
जिनको मैंने अपना माना।

क्या खता हुई मुझसे
ये समझ नहीं पाई हूँ
बहुत सी अनकही हरकतों से लगता है
मैं परायी थी और अभी भी पराई हूँ।

जब तक सर झुका कर
सारे आदेशों का अक्षरशः पालन किया
तब तक सब खुश थे मुझसे
लेकिन जब मैंने जीना चाहा
तो सबने मुझको ठुकराया।

ऐसी जगह पर भी मुझे मिला
कोई एक मेरा अपना
जो हाथ पकड़ लाया घर में
वही समझता है मेरा सपना

उसने मुझे संबल देकर संभाला
इस रिश्ते को जी कर
मन को खुश कर लेती हूँ।
लेकिन फिर घबरा जाती हूँ

ये सोचकर
क्यों हो गए सभी पराये मुझसे
क्यों रिश्तों में खटास हुई
क्यों वापस नहीं मिल जाते हम
मिल जुल कर रहें सभी एक साथ
सही मायने में यही जीवन है।

यही सोचकर
रातों को मैं सो नहीं पाती हूँ
क्या बिखरे रिश्ते कभी वापस जुड़ पायेंगे
जो कर बैठे पराया मुझको

क्या कभी मुझे अपनाएँगे
मन बार-बार यही पूँछता है कि
ये रातों का सूनापन ये सन्नाटा
कब जाएगा मेरे मन से।

रातों का सूनापन और सन्नाटा Desolation and silence in nights

जवानी का गुरुर - यही जवानी का गुरुर है

वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं

मैं लड़की हूँ इसमें मेरा कुसूर क्या है?

वो मेरी याद में आंसू बहा रहे हैं - आज वो मेरी याद में आंसू बहा रहे हैं

प्रतिवर्ष हिंदी दिवस आता है - हिंदी प्रेम प्रदर्शन के लिए प्रतिवर्ष हिंदी दिवस आता है।